स्वप्न मेरे: ज़िन्दगी ...

शनिवार, 18 मई 2024

ज़िन्दगी ...

दौड़ें इतना कि खुद के करीब आ जाएँ
सुने अपने दिल की धड़कन
महसूस करें अपनी गर्म साँसें
कि उनके नाम से जीते रहना ज़िन्दगी तो नहीं

सो जाओ तुम ...
नहीं आ सकोगी ख़्वाबों में
कसम ली है आँखों ने रात भर न सोने की
तुम्हारे अलावा भी तिलिस्मी है ये ज़िन्दगी ...
#जंगली_गुलाब

11 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन और लाजवाब अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  2. जिन्दगी का तिलिस्म शायर से बेहतर कौन समझेगा...Nice words...👏👏👏

    जवाब देंहटाएं
  3. दौड़ें इतना कि खुद के करीब आ जाएँ
    उच्च आकांक्षाओं में खुद को स्थापित कर खुद को पा लेने तक की दौड़ !!!!
    वाह!!!
    लाजवाब👌👌🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  4. ख़ुद को पा लेने की ख्वाहिश में ही छुपी हैं सारी ख्वाहिशें, वह पूरी हो जाये तो बाक़ी सब मिट जाती हैं अपने आप ही

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है