स्वप्न मेरे: अब गुज़री तो तब गुज़री ...

बुधवार, 29 अगस्त 2012

अब गुज़री तो तब गुज़री ...


अब गुज़री तो तब गुज़री 
धीरे धीरे सब गुज़री 

तन्हाई में फिर कैसे 
पूछो ना साहब गुज़री 

मुद्दत तक रस्ता देखा 
इस रस्ते तू अब गुज़री   

दिन बीता तेरी खातिर 
तेरी खातिर शब् गुज़री 

महफ़िल महफ़िल घूम लिए 
तन्हाई पर कब गुज़री 

मोती तब ही चुन पाया   
गहरे सागर जब गुज़री 

68 टिप्‍पणियां:

  1. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री

    मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री

    वाह , बहुत सुंदर गज़ल

    जवाब देंहटाएं
  2. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री
    लाजवाब शे’र है। कितबी सारी बातें कह जाते हैं ये छोटे बहर के शे’र।

    जवाब देंहटाएं
  3. किसी न किसी तरह गुजर ही गयी..जिंदगी जो आज थी कल घर गयी, सुंदर गजल !

    जवाब देंहटाएं
  4. मुद्दत तक रस्ता देखा
    इस रस्ते तू अब गुज़री
    वाह! क्या कहने.
    ग़ज़ल सरल और सरस है.

    जवाब देंहटाएं
  5. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री

    ...वाह! बहुत ख़ूबसूरत गज़ल...

    जवाब देंहटाएं
  6. ये ग़ज़ल आपकी गज़ब गुजरी, क्या बात है सर, बहुत खूब बधाई स्वीकारें.

    जवाब देंहटाएं
  7. दुनिया देखे खड़े-२
    हम पे गुजरी, उस पे गुज़री...

    सुन्दर रचना...

    जवाब देंहटाएं
  8. मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री
    Bahut sundar.....lekin anubhav kahta hai ki,gahre sagar me doob ke bhee zarooree nahee ki moti mile!

    जवाब देंहटाएं
  9. मुद्दत तक रस्ता देखा
    इस रस्ते तू अब गुज़री

    क्या बात है...

    जवाब देंहटाएं
  10. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री

    मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री

    लाजवाब गजल ।

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  11. महफिल,मोती,फिर तनहाई
    हर आशिक की ऐसी गुज़री

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह बहुत खूब .....


    सागर की हर लहर
    तेरी याद देकर गुज़री

    जवाब देंहटाएं
  13. वाह बहुत खूब .....


    सागर की हर लहर
    तेरी याद देकर गुज़री

    जवाब देंहटाएं
  14. यह सादा सी गज़ल थोडे शब्दों में बडी बात समेटे है ।

    जवाब देंहटाएं
  15. एक बार फिर मन मोह लिया आपके छोटी बहर के अशार ने,, मुकम्मल गज़ल!!

    जवाब देंहटाएं
  16. सुंदर प्रस्तुति !:-)

    तेरी रहगुज़र पा जाऊँ... इसकर हर रस्ते से मैं गुज़री...,
    तुझ तक पहुँच सकी मैं जब तक.....
    हर मोड़ से तू निकल गुज़री...
    ~सादर !!!

    जवाब देंहटाएं
  17. क्या बतलायें सच में तुमको,
    गुजर गुजर कैसे गुजरी।

    जवाब देंहटाएं
  18. थोड़े से शब्दों में भी
    बात बड़ी ये कह गुजरी
    बहुत सुन्दर गज़ल...

    जवाब देंहटाएं
  19. MUDDAT TAK RASTAA DEKHA
    IS RASTE TOO AB NIKLEE

    14 MAATRIK CHHAND MEIN KAHEE UMDA
    GAZAL KE LIYE AAPKO BADHAAEE .

    जवाब देंहटाएं
  20. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री


    वाह बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  21. अब गुज़री तो तब गुज़री
    धीरे धीरे सब गुज़री
    सही कहा,आपने .धीरे धीरे सब गुज़र ही जाता है .

    जवाब देंहटाएं
  22. आज सभी कह डालेंगे ,
    अब तक जो हम पर गुज़री !

    जवाब देंहटाएं
  23. वाह! बेहतरीन ग़ज़ल है...

    जवाब देंहटाएं
  24. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री

    मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री

    छोटी बहर के बोलते हुए शेर....मन तो ताजगी देती ग़ज़ल... बधाई हो..!

    जवाब देंहटाएं
  25. मुद्दत तक रस्ता देखा
    इस रस्ते तू अब गुज़री
    waah

    जवाब देंहटाएं
  26. मुद्दत तक रस्ता देखा
    इस रस्ते तू अब गुज़री
    ........वाह क्या बात है नासवा जी ...बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  27. दिगाम्जर जी, अति सुन्दर. आज तो आप छा गए....!!!

    जवाब देंहटाएं
  28. बहुत शानदार ग़ज़ल शानदार भावसंयोजन हर शेर बढ़िया है आपको बहुत बधाई

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/


    जवाब देंहटाएं
  29. तन्हाई में फिर कैसे
    पूछो ना साहब गुज़री ...अलग बात है रवानी भी और अन्दाजेबयाँ भी !

    जवाब देंहटाएं
  30. छोटी बहर.....खुबसूरत ।

    जवाब देंहटाएं
  31. दिन बीता तेरी खातिर
    तेरी खातिर शब् गुज़री

    yaad rah jaayega ye :)

    जवाब देंहटाएं
  32. दिन बीता तेरी खातिर
    तेरी खातिर शब् गुज़री

    महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री..... वाह बहुत ही बढ़िया भावपूर्ण लाजवाब रचना...

    जवाब देंहटाएं
  33. वाह|||
    क्या कहने सर..
    बेहतरीन गजल...
    :-)

    जवाब देंहटाएं
  34. मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री

    बेहतरीन ।

    जवाब देंहटाएं
  35. अब गुज़री तो तब गुज़री
    धीरे धीरे सब गुज़री

    सच है जिंदगी गुजर ही जाती है... अच्छी... बुरी... हंसती.. रोती...कुछ भी ठहरता नहीं सदा के लिए . सुन्दर प्रस्तुति...
    मंजु मिश्रा
    manukavya.wordpress.com

    जवाब देंहटाएं
  36. मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री

    हर शेर लाज़वाब...बेहतरीन ग़ज़ल !!

    जवाब देंहटाएं
  37. छोटी बहर और मुश्किल काफियों से आपने जो ग़ज़ल में समाँ बांधा है उसकी तारीफ़ के लिए मुकम्मल लफ्ज़ नहीं हैं मेरे पास...कमाल करते हैं आप दिगंबर जी...मैं तो आपकी शायरी का दीवाना हूँ...

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  38. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री
    sundr bhav
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  39. दिन बीता तेरी खातिर
    तेरी खातिर शब् गुज़री

    महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री

    बहुत खूब साहब.......

    लुटे लुटे से दिखते हो
    कब वो बेमतलब गुजरी

    ज्योंहि हमने गज़ल पढ़ी
    दिल पे यार गजब गुजरी

    जवाब देंहटाएं
  40. मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री
    bahut sundar ghazal...

    जवाब देंहटाएं
  41. खूब गुज़री औ बखूबी गुजरी...

    बधाई दिगम्बर भाई !

    जवाब देंहटाएं

  42. अब गुज़री तो तब गुज़री
    धीरे धीरे सब गुज़री

    तन्हाई में फिर कैसे
    पूछो ना साहब गुज़री

    मुद्दत तक रस्ता देखा
    इस रस्ते तू अब गुज़री

    दिन बीता तेरी खातिर
    तेरी खातिर शब् गुज़री

    महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री

    मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री

    काहे गुज़रिया मिली यहाँ ,
    थमी खड़ी है रह -गुजरी .
    अब गुजरी के तब गुजरी .

    हाल न पूछो अब कुछ भी,
    मौसम पे क्या क्या गुजरी .

    रिमोट देखा है जब से ,
    मोहन सिंह(मौन सींघों ) पे क्या गुजरी .
    बहुत बढ़िया रचना नासवा साहब , आशु कुछ लिख गए ,हम भी
    देख औरों पे क्या गुजरी ....

    जवाब देंहटाएं
  43. न कोई वक्त ,न कोई वायदा ,
    न कोई ,उम्मीद ,
    खड़े थे रह गुज़र पर ,
    करना था तेरा इंतज़ार ,
    मत पूछ गुज़रिया ,
    रह गुज़र पे क्या गुजरी ,
    कैसी गुजरी .

    जवाब देंहटाएं

  44. अब गुज़री तो तब गुज़री
    धीरे धीरे सब गुज़री

    बारहा पढने लायक छोटी बहर की बड़ी उपज .
    ram ram bhai
    सोमवार, 3 सितम्बर 2012
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना

    What both women and men need to know about hypertension

    सेंटर्स फार डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के एक अनुमान के अनुसार छ :करोड़ अस्सी लाख अमरीकी उच्च रक्त चाप या हाइपरटेंशन की गिरिफ्त में हैं और २० फीसद को इसका इल्म भी नहीं है .

    क्योंकि इलाज़ न मिलने पर (शिनाख्त या रोग निदान ही नहीं हुआ है तब इलाज़ कहाँ से हो )हाइपरटेंशन अनेक स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं खड़ी कर सकता है ,दिल और दिमाग के दौरे के खतरे के वजन को बढा सकता है .दबे पाँव आतीं हैं ये आफत बारास्ता हाइपरटेंशन इसीलिए इस मारक अवस्था (खुद में रोग नहीं है जो उस हाइपरटेंशन )को "सायलेंट किलर "कहा जाता है .

    माहिरों के अनुसार बिना लक्षणों के प्रगटीकरण के आप इस मारक रोग के साथ सालों साल बने रह सकतें हैं .इसीलिए इसकी(रक्त चाप की ) नियमित जांच करवाते रहना चाहिए

    जवाब देंहटाएं

  45. अब गुज़री तो तब गुज़री
    धीरे धीरे सब गुज़री
    तुझको कुछ मालूम नहीं ,
    हम पे क्या क्या है गुजरी .
    नैट आर्कुट ढूंढ लिया, बदरी बिन बरसे गुजरी

    बारहा पढने लायक छोटी बहर की बड़ी उपज .
    ram ram bhai
    सोमवार, 3 सितम्बर 2012
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना

    जवाब देंहटाएं
  46. छोटे बहर की एक और शानदार गज़ल।..वाह!

    मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री
    ..लाज़वाब!

    जवाब देंहटाएं
  47. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री

    मोती तब ही चुन पाया
    गहरे सागर जब गुज़री

    सुंदर गजल ।

    जवाब देंहटाएं
  48. क्या कहूँ ? गुजर जाने की तमन्ना उठी..

    जवाब देंहटाएं
  49. दिन बीता तेरी खातिर
    तेरी खातिर शब् गुज़री
    sundar.....

    जवाब देंहटाएं
  50. महफ़िल महफ़िल घूम लिए
    तन्हाई पर कब गुज़री
    छोटी बहर में लिखी इन दो पंक्तियों में तन्हाई का पूरा ज़िक्र है. बहुत सुंदर.

    जवाब देंहटाएं
  51. मुद्दत तक रस्ता देखा
    इस रस्ते तू अब गुज़री!

    .....लाज़वाब!

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है