स्वप्न मेरे: पहली मुलाकात ...

मंगलवार, 27 अप्रैल 2010

पहली मुलाकात ...

काम के सिलसिले में आने वाला सप्ताह ब्लॉग-जगत से दूर रहूँगा ...... जाते जाते ये कविता आपके सुपुर्द है ...

सुनो
क्या याद है तुम्हे
पहली मुलाकात
पलकें झुकाए
दबी दबी हँसी
छलकने को बेताब

वो अल्हड़ लम्हे
भीगा एहसास
हाथों में हाथ लिए
घंटों ठहरा वक़्त
उनिंदी रातें
कहने को
अनगिनत बातें

दिल की बंज़र ज़मीन पर
नाख़ून से बने कुछ निशान
कोरे केनवस पर खिंची
आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म

आज भी ताज़ा है नमी
खून से रिसती लकीरों में
जिंदा है तेरे हाथों की खुश्बू
धमनियों में दौड़ते खून में

तेरी यादें मकसद हैं
मेरे जीने की चाह का
तेरा एहसास उर्जा है
मेरी साँसों के प्रवाह का

73 टिप्‍पणियां:

  1. तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का
    Aah! Aap aisa likh jate hain,ki,mai har baar khamosh ho jati hun..

    जवाब देंहटाएं
  2. पहली मुलाक़ात का हर लम्हा यूँ ही यादों में छलकता है और लफ़्ज़ों में ढलता है ...बहुत बढ़िया लगी आपकी यह रचना ..

    जवाब देंहटाएं
  3. किसी से बिछोह की कसक उभर कर सामने आ रही है कविता में. यात्रा के लिये शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं
  4. तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का
    ऊर्जा नष्ट तो होती नहीं रूपांतरण ही होता है
    यह ऊर्जा बरकरार रहे
    बेहतरीन रचना

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया,
    बड़ी खूबसूरती से कही अपनी बात आपने.....


    यात्रा के लिये शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं
  6. तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का ...
    सुंदर भाव... स्मृतिया जीने को प्रेरित करती हैं... बेहतरीन कविता... जिस कार्य के लिए ब्रेक ले रहे हैं वो सफल हो... कामना है

    जवाब देंहटाएं
  7. पहली मुलाकात को अविस्मरणीय बना दिया आपने,
    छेड़ दिया है साहब पुराने जख्मों को।

    आपकी वापसी का इंतज़ार रहेगा।

    आभार।

    जवाब देंहटाएं
  8. सुनो
    क्या याद है तुम्हे
    पहली मुलाकात
    पलकें झुकाए
    दबी दबी हँसी
    छलकने को बेताब
    अरे वाह क्या बात है जी बहुत सुंदर लगी आप की यह कविता.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह दिगंबर जी... क्या बढ़िया रुमानियत भरी रचना है ... दिल खुश हो गया ...
    वो अल्हड़ लम्हे
    भीगा एहसास
    हाथों में हाथ लिए
    घंटों ठहरा वक़्त

    क्या एहसास है ... क्या मादक लम्हे हैं ...!
    वाह !

    जवाब देंहटाएं
  10. दिल की बंज़र ज़मीन पर
    नाख़ून से बने कुछ निशान
    कोरे केनवस पर खिंची
    आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म


    तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का

    बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति....किसी का एहसास कितनी उर्जा प्रदान कर सकता है..ये आपकी इस कविता से पता चलता है...बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  11. किसकी याद आ गयी साहब.
    अंतिम पंक्तियां गजब ढ़ा रही हैं...

    जवाब देंहटाएं
  12. "दिल की बंज़र ज़मीन पर
    नाख़ून से बने कुछ निशान
    कोरे केनवस पर खिंची
    आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म"


    अति सुन्दर अभिवयक्ति नासवा जी,


    कुंवर जी,

    जवाब देंहटाएं
  13. काम के सिलसिले में आने वाला सप्ताह ब्लॉग-जगत से दूर रहूँगा

    -हाय!! कैसी काटेंगे यह एक सप्ताह!! इन्तजार की घड़ियाँ बहुत धीरे खसकती हैं..जल्दी आना!! :)

    जवाब देंहटाएं
  14. अरे हाँ, कविता बेहतरीन है.

    जवाब देंहटाएं
  15. तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का

    रचना पढ़कर पुरानी यादें ताजा हो गईँ!

    जवाब देंहटाएं
  16. सरलता और सहजता का अद्भुत सम्मिश्रण बरबस मन को आकृष्ट करता है। चूंकि कविता अनुभव पर आधारित है, इसलिए इसमें अद्भुत ताजगी है।

    जवाब देंहटाएं
  17. aaj pehli baar meri mulakat aapke blog se hui,
    or aapke blog post 'pehli mulakat' ne to mujhe aake lekhni ka murid bana dala.
    bahut accha likha hai..is pehli mulakat ki khusbu dil tak utar gayi.
    regards-
    #ROHIT

    जवाब देंहटाएं
  18. तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का

    pyar ka sach yahi hai .Badhai!!

    जवाब देंहटाएं
  19. हर किसी ने किसी न किसी क्षण में इन एह्सासात को रूह से मह्सूस किया होगा... आपने फिर से ताज़ा कर दिया... जल्दी लौट कर आइए..हम आपकी राह देख रहे हैं..

    जवाब देंहटाएं
  20. प्यार के रंगों में उम्र १६ वें पडाव को छू आया, जाने कितना कुछ याद आया

    जवाब देंहटाएं
  21. पहली मुलाकात कभी भूलती नही

    जवाब देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर दिल के भाव । याद दिला दिया आपने पहली मुलाकात । हफ़्ता खत्म होने पर लौटने का इन्तेज़ार रहेगा ।

    जवाब देंहटाएं
  23. आज भी ताज़ा है नमी
    खून से रिसति लकीरों में
    जिंदा है तेरे हाथों की खुश्बू
    धमनियों में दौड़ते खून में
    ---- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  24. 'दिल की बंज़र ज़मीन पर
    नाख़ून से बने कुछ निशान
    कोरे केनवस पर खिंची
    आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म '
    --ये ज़ख़्म कभी भरते ही नहीं!
    'पहली मुलाकात ..
    बेहतरीन प्रस्तुति .
    [ अंतराल के लिए शुभकामनायें ]

    जवाब देंहटाएं
  25. दिल की बंज़र ज़मीन पर
    नाख़ून से बने कुछ निशान
    कोरे केनवस पर खिंची
    आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म

    तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का
    हर बात कहीं न कहीं कुछ न कुछ याद दिलाती है!!!!
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  26. सुनो
    क्या याद है तुम्हे
    पहली मुलाकात
    पलकें झुकाए
    दबी दबी हँसी
    छलकने को बेताब
    .........कुछ ऐसे ही एहसासों से भरी एक रचना मैंने कुछ दिन पहले लिखी थी.............आपकी यह अभिव्यक्ति बड़ी खूबसूरत लगी। दिल को छू लिया आपने।

    जवाब देंहटाएं
  27. prem ras mein aaplavit ye kriti sach mein bahut hi bhavbhini hai..........sach kuch ahasaas saanson ki tarah baste hain.

    जवाब देंहटाएं
  28. वो अल्हड़ लम्हे
    भीगा एहसास
    हाथों में हाथ लिए
    घंटों ठहरा वक़्त
    उनिंदी रातें
    कहने को
    अनगिनत बातें
    Wah !बहुत सुंदर !

    जवाब देंहटाएं
  29. पहला प्यार --पहली मुलाकात । वाह आज तो रूमानी हो गए जी ।

    जवाब देंहटाएं
  30. ghumta ghumta aapke blog par dubaara chala aaya.....
    itni achhi kavitaayein dene ke liye dhanyawaad.....
    -------------------------------------
    mere blog par is baar
    तुम कहाँ हो ? ? ?
    jaroor aayein...
    tippani ka intzaar rahega...
    http://i555.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  31. दबी हंसी छलकने को बेताब ?दिल की जमीन पर नाखून ?जीने का मकसद और चाह है सिर्फ़ तेरी याद ,सांसों के प्रवाह की उर्जा है तेरा अहसास सुन्दर अभिव्यक्ति ।वियोग का एक सुन्दर गीत

    जवाब देंहटाएं
  32. दबी हंसी छलकने को बेताब ?दिल की जमीन पर नाखून ?जीने का मकसद और चाह है सिर्फ़ तेरी याद ,सांसों के प्रवाह की उर्जा है तेरा अहसास सुन्दर अभिव्यक्ति ।वियोग का एक सुन्दर गीत

    जवाब देंहटाएं
  33. वाह्! अच्छी लगी रचना...पढकर मन आनन्दित हुआ...बाकिया तो समीर जी वाली टिप्पणी को हमारी भी टिप्पणी समझ लीजिए :-)

    -हाय!! कैसी काटेंगे यह एक सप्ताह!! इन्तजार की घड़ियाँ बहुत धीरे खसकती हैं..जल्दी आना!! :)

    जवाब देंहटाएं
  34. lajawab .............
    bahut badiya abhivykti har koi yadon ke galiyare se ghoom aaya.............

    जवाब देंहटाएं
  35. यादों के एक बेहद सकारात्मक और सार्थक रूप को कविता मे सामने रखा है..और यह पंक्तियाँ खास लगीं

    दिल की बंज़र ज़मीन पर
    नाख़ून से बने कुछ निशान
    कोरे केनवस पर खिंची
    आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म

    रेखाओं के ज़ख्म...एक जुदा अहसास है!

    जवाब देंहटाएं
  36. बेहद खुबसूरत रचना है,आपके वापसी का इंतजार रहेगा।

    जवाब देंहटाएं
  37. दिल की बंज़र ज़मीन पर
    नाख़ून से बने कुछ निशान
    कोरे केनवस पर खिंची
    आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म
    bahut khub
    nasva ji..................

    जवाब देंहटाएं
  38. 'तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का'

    - यह विश्वास और समर्पण काबिले तारीफ़ है.

    जवाब देंहटाएं
  39. 'तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का'
    bahut hi sundar ahasas kara gai aapki yah behatareen post.
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  40. Behad roomani kawita. pahali mulakat kee bat hee kuch khas hotee hai. Khas kar agar wah mulakt hee rah jaye.
    तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का

    Bahut sunder.

    जवाब देंहटाएं
  41. दिल की बंज़र ज़मीन पर
    नाख़ून से बने कुछ निशान
    कोरे केनवस पर खिंची
    आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म
    .....gahare jakhm ko bhavpurn gahari prastuti ...
    Bahut bhavpurn rachna.... atarman ko chhuti...

    जवाब देंहटाएं
  42. दिगंबर जी मुझे सब कुछ याद है न जाने कितने दिनों से आपकी रचनाओं को पढ़ रहा हूँ..ग़ज़ल,कविता,क्षणिकाएँ हर विधा में महारत हासिल हैं ना की लय और शब्द की दृष्टि से बल्कि भाव की दृष्टि से सब बेहतरीन होती है और उसी कड़ी में एक आज की रचना..बहुत खूबसूरत और बेहतरीन....

    जवाब देंहटाएं
  43. खूबसूरत कविता पर बस इतना ही कहना है,

    "प्रेम गली अति सांकरी जा मे दो न समायें"

    अपना ख्याल रखना पूरे हफ्ते!

    प्रेम!

    जवाब देंहटाएं
  44. खूबसूरत कविता पर बस इतना ही कहना है,

    "प्रेम गली अति सांकरी जा मे दो न समायें"

    अपना ख्याल रखना पूरे हफ्ते!

    प्रेम!

    जवाब देंहटाएं
  45. क्या याद है तुम्हे
    पहली मुलाकात
    पलकें झुकाए
    दबी दबी हँसी
    छलकने को बेताब

    बहुत सुंदर......!!

    आप होकर आइये हम इन्तजार करते हैं ....!!

    जवाब देंहटाएं
  46. तेरा एहसास उर्जा है !
    इस दिगम्बर एहसास और उर्जा से भरी कविता के लिए शत शत आभार !

    जवाब देंहटाएं
  47. सुन्दर ;सार्थक काव्य"

    जवाब देंहटाएं
  48. adbhut premanubhutee. sochta hun kabhee-kabhee ki gar kavita naa hotee to in ehsasoson se ham jaise khurdare aadmee anjaan hee rahte.

    जवाब देंहटाएं
  49. यादों के समंदर में डुबकी लगाना, जख्म भुला देना मोती बीन लाना, सचमुच कमाल का काम है. जिंदगी संवरती है सुंदर एहसासों से....
    ..बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  50. नासवा जी,
    कई बार तो आप बस चुभ जाते हैं नश्तर की तरह!
    सच में.... सानू भी एक पल चैन ना आवे....

    जवाब देंहटाएं
  51. वाह !!! ऊर्जा का रहस्य दिगम्बर कर दिया ।

    जवाब देंहटाएं
  52. नासवा जी
    दिल की बंज़र ज़मीन पर
    नाख़ून से बने कुछ निशान
    कोरे केनवस पर खिंची
    आडी तिरछी रेखाओं के ज़ख़्म

    वाह क्या जबरदस्त कविता है
    आप दूर रहेंगे.........मगर ज़रा जल्दी लौटियेगा......शिद्दत से इन्तिज़ार रहेगा

    जवाब देंहटाएं
  53. उम्मीद है अब आप आ गए होंगे और कुछ नया लिख रहे
    होंगे , ठहराव के बाद और भी अनुभव में पगी रचना सामने
    आती है , उसका इंतिजार है !
    ...............
    इस कविता में दो जगह टाइपिंग मिस्टेक है जो जाने की
    जल्दबाजी में हुआ होगा , ठीक कर दीजिएगा तो और अच्छा
    लगेगा ..
    कविता अच्छी है .. 'अनगिन हो कहने को' तो कविता में
    भाव ही बोलते हैं .. शब्द भी पीछे हो जाते हैं .. सुन्दर कविता
    लिखी है आपने .. यह खंड अच्छा है ---
    '' तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का ''
    ------------ जीने के साथ सांस और चाह के साथ प्रवाह का संयोह
    बहुत ही सुन्दर बन गया है !
    आभार !

    जवाब देंहटाएं
  54. गजब...प्यार कि अद्भुत अभिव्यक्ति....कोई चाहकर भी ना भुला पायेगा ये लम्हे जो दर्ज हैं आपकी कविता में..

    जवाब देंहटाएं
  55. तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का
    बहुत ही सुन्दर लिखा है .

    जवाब देंहटाएं
  56. तेरी यादें मकसद हैं
    मेरे जीने की चाह का
    तेरा एहसास उर्जा है
    मेरी साँसों के प्रवाह का
    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति....

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है