स्वप्न मेरे: माँ का दिल ...

मंगलवार, 22 जनवरी 2013

माँ का दिल ...


कहते हैं गंगा मिलन
मुक्ति का मार्ग है

कनखल पे अस्थियां प्रवाहित करते समय
इक पल को ऐसा लगा
सचमुच तुम हमसे दूर जा रही हो ...

इस नश्वर संसार से मुक्त होना चाहती हो
सत्य की खोज में
श्रृष्टि से एकाकार होना चाहती हो

पर गंगा के तेज प्रवाह के साथ
तुम तो केवल सागर से मिलना चाहती थीं
उसमें समा जाना चाहती थीं

जानतीं थीं
गंगा सागर से अरब सागर का सफर
चुटकियों में तय हो जाएगा    
उसके बाद तुम दुबई के सागर में
फिर से मेरे के करीब होंगी ...    

किसी ने सच कहा है
अपनी माँ के दिल को जानना
मुश्किल नहीं ...  

(१३ वर्षों से दुबई रहते हुवे मन में ऐसे भाव उठाना स्वाभाविक है) 

59 टिप्‍पणियां:

  1. किसी ने सच ही कहा है वाकई माँ का दिल दरिया है जिसका कोई पार नहीं ....बेहतरीन शब्द दिए आपने अपनी भावना को ...

    जवाब देंहटाएं
  2. सर्वप्रथम नमस्कार ,सच कहा इतने लम्बे समय परदेश में गुजारने के बाद ऐसा मन में भाव आएगा ही। अपने सुंदर भाव को पप्रस्तुति का सार्थक अंदाज। मैं अबू धाबी में 10 से हूँ।
    rajendra651@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
  3. जानतीं थीं
    गंगा सागर से अरब सागर का सफर
    चुटकियों में तय हो जाएगा
    उसके बाद तुम दुबई के सागर में
    फिर से मेरे के करीब होंगी ...

    भावुक , भावना -पूर्ण !

    जवाब देंहटाएं
  4. माँ के प्रति आदर और प्रेम जतातीं सुंदर पंक्तियाँ..

    जवाब देंहटाएं
  5. संस्मरण में रण दिखा, सुमिरन सा भावार्थ |
    खड़े खड़े कुरुक्षेत्र में, होते विचलित पार्थ ?

    होते विचलित पार्थ, नहीं परमारथ भूलो |
    एक बार फिर आज, चरण माता के छू लो |

    माता रही विराज, युगों से ईश चरण में ||
    निहित मरण सा शब्द, नासवा संस्मरण में || |

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    जवाब देंहटाएं
  7. माँ के जाने के बाद उसे करीब पाने की लालसा व्यक्त करती सुंदर रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  8. शब्द नहीं मिलते आपकी ऐसी कविता पर कुछ कहने को,
    मन भावुक हो जाता है

    जवाब देंहटाएं
  9. भावुक मन से भी सो स्वीट कहने को मन किया.

    जवाब देंहटाएं
  10. माँ के प्रति आपके मनोभावों को सादर सलाम

    जवाब देंहटाएं
  11. मर्मस्पर्शी रचना ....माँ की गोद में बिठा गई

    जवाब देंहटाएं
  12. अत्यधिक मर्मस्पर्शी रचना ... माँ और माँ का प्यार अविस्मरणीय होता है.

    जवाब देंहटाएं
  13. ओह रे ताल मिले नदी के जल में ,

    नदी मिले सागर में ,

    सागर मिले कौन से जल में ,

    कोई जाने न .

    कुछ ऐसा ही अन्वेषण है कवि का इस रचना में .आत्मा एक ऊर्जामय चेतना ही है जो रूपांतरित होती है .शरीर तत्व पञ्च तत्व में विलीन हो जाता है आत्मा आत्मिक चक्र में चली आती है .आभार

    आपकी महत्वपूर्ण टिप्पणियों का .

    जवाब देंहटाएं
  14. आपके ह्रदय में उठते सहज भाव का हम ह्रदय से सम्मान करते हैं..

    जवाब देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  16. माँ की यादें बहुत प्यारी होती हैं !!

    जवाब देंहटाएं
  17. बिलकुल ठीक कहा आपने ऐसा लगना स्वाभाविक सी बात है मार्मिक रचना...

    जवाब देंहटाएं
  18. अत्यंत भावुक और मर्मस्पर्षि रचना.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  19. वाह, बहुत खूब!!! बस और कुछ नहीं है कहने को।।।

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर भावुक और मार्मिक रचना . आभार

    जवाब देंहटाएं
  21. मुझे निर्मल वर्मा की वो पंक्तियाँ याद आती हैं जब कोई हिंदू अपने परिजनों की अस्थियाँ हरिद्वार में गंगा में बहाता है तो उसे वैसे ही संपूर्ति की प्राप्ति होती होगी जैसा कि ग्रीक लेखकों को कैथार्सिस की संपूर्ति में प्राप्त होती थी।

    जवाब देंहटाएं
  22. मार्मिक है माँ के लिये आपकी वेदना । इसे वही महसूस कर सकता है जिसे यह वेदना सहनी पडी हो ।

    जवाब देंहटाएं
  23. इन भावों को महसूस करना उनको अपने पास पाना ही है ..यादों में जो हर वक्त साथ रहे वो न हो कर भी पास ही है...उनका आशीर्वाद और कृपा दृष्टि आप पर बनी रहे ..यह भावपूर्ण रचना उन्हें श्रद्धा सुमन हैं.

    जवाब देंहटाएं
  24. ह्रदय में उतरते मन के भाव निशब्द करते हुए

    जवाब देंहटाएं

  25. जी सचमुच, माँ है, आप हैं, हम हैं तो इस जगत में भावनाओं की प्रधानता है। भाव निशब्द करते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  26. भावमय करते शब्‍द ... नि:शब्‍द करती अभिव्‍यक्ति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  27. सुन्दर प्रस्तुति!
    वरिष्ठ गणतन्त्रदिवस की अग्रिम शुभकामनाएँ और नेता जी सुभाष को नमन!

    जवाब देंहटाएं
  28. आदरणीय सर आपके ह्रदय के हाल का मैं अनुभव कर सकता हूँ. माँ के लिए यह समर्पण और प्रेम भाव मुझे भावुक कर गया. हार्दिक बधाई स्वीकारें.

    जवाब देंहटाएं
  29. विश्व हमारा एक रहेगा, जल के माध्यम से, तटों के माध्यम से, मार्मिक रचना।

    जवाब देंहटाएं
  30. MA KO HARDIK SHRDHANJALI .....

    MAMSPARSHI RACHANA KE LIYE HARDIK BADHAI NASWA JI .......ESKE SATH HI SATH AK KHAS BADHAI BHI SWEEKAREN KI AP NE BLOG PR APNI TASHVIR LGA DI HAI .

    जवाब देंहटाएं
  31. भीगी-भीगी सी रचना....
    आप कहीं भी हों... माँ को आपके पास आने के लिए किसी ज़रिए की ज़रूरत नहीं... वो तो हमेशा ही आपके पास, आपके साथ हैं.....
    ~सादर!!!

    जवाब देंहटाएं
  32. भीगी-भीगी सी रचना....
    आप कहीं भी हों... माँ को आपके पास आने के लिए किसी ज़रिए की ज़रूरत नहीं... वो तो हमेशा ही आपके पास, आपके साथ हैं.....
    ~सादर!!!

    जवाब देंहटाएं
  33. सबसे पहले माँ को नमन. दिल छू गए आपके शब्द. दूर हो के भी माँ दूर कैसी जा सकती है.

    जवाब देंहटाएं
  34. माँ के दिल को जानना कठिन नहीं..दुःख है आज लोग उसको जानने की कोशिश नहीं करते..बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    जवाब देंहटाएं
  35. माँ की यादें आसानी से भुलाई नहीं जा सकती हैं. भावनात्मक अभिव्यक्ति.

    ६४ वें गणतंत्र दिवस पर बधाइयाँ और शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं
  36. man ko kareeb pane ke liye hamara man kya kya soch leta hai.bahut sunder .

    जवाब देंहटाएं
  37. माँ की ममता बच्चो को ढूढ़ लेती है |

    जवाब देंहटाएं
  38. maa se kabhi koi juda nhi ho sakta.
    sunder abhiwaykti..

    जवाब देंहटाएं
  39. hii i am auther of blog http://differentstroks.blogspot.in/
    hereby nominate you to LIEBSTER BLOGERS AWARD.
    further details can be seen on blog posthttp://differentstroks.blogspot.in/2013/01/normal-0-false-false-false-en-us-x-none.html#links
    await your comment thanks

    जवाब देंहटाएं
  40. मां का प्यार असीम और अनंत है

    जवाब देंहटाएं
  41. माँ की स्मृति को गंगा नदी, सागर और अरब सागर से जोड़ कर जीवन को समझने की कोशिश और दुःख में सुख की तलाश... बहुत अच्छी और भावुक रचना. शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं
  42. मन को झंकृत करती एक अच्छी कविता |आभार

    जवाब देंहटाएं
  43. सागर की लहरों में मां की लोरियों की धुन !

    हृदय को स्पर्श करने वाले शब्द।

    जवाब देंहटाएं
  44. मां महान, संसारवान। सुन्‍दर अनुभूति।

    जवाब देंहटाएं
  45. माँ कितनी भी दूर हो ....रहती हमेशा आस पास ही है ......तभी तो हमेशा हर विपदा में उसी का नाम ज़बान पर आता है .......और सुकून भी मिल जाता है ....

    जवाब देंहटाएं
  46. वे हमेशा आपके पास होंगी ...

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है