स्वप्न मेरे: अँधेरा ...

मंगलवार, 19 जुलाई 2011

अँधेरा ...

तुम्ही ने तो कहा था कितना काला हूँ
अँधेरे में नज़र नहीं आता
साक्षात अँधेरे की तरह

पर क्या तुम्हें एक पल भी
जीवन में अँधेरे का एहसास हुवा

मेरी खुश्क त्वचा ने
कब तुम्हारे अँधेरे को सोखना शुरू किया
मैं नहीं जानता

बढते शिखर के साथ
तुम्हारी जरूरत बढती गयी
मैं और तेजी से जलता रहा
यहाँ तक की आने वाले तमाम रास्तों पर
रौशनी ही रौशनी छितरा दी

अब जबकि तुम्हारी आँखें चुंधियाने लगीं हैं
बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
तुम्हारे साथ चलने लगा है
मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

हाँ ... अँधेरा जो हूँ

87 टिप्‍पणियां:

  1. अँधेरा का विम्ब बढ़िया बना है...रिश्तों में जो अँधेरा छा रहा है उसपर रौशनी डालती कविता अच्छी बनी है.. बहुत सुन्दर...

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीय नासवा जी
    नमस्कार !
    मेरी खुश्क त्वचा ने
    कब तुम्हारे अँधेरे को सोखना शुरू किया
    मैं नहीं जानता
    .....गजब कि पंक्तियाँ हैं ...
    रचना सोच रहा हूं ...किसकी तारीफ करूं सुंदर कविता की ...आपकी सोच की ...या लेखनी की जिनसे ये शब्‍द जन्‍म लेते हैं ...बेमिसाल प्रस्‍तुति ********

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत गहनता के साथ भावों को प्रस्तुत किया है आपने .रिश्तों में बढती दूरियां आज की महत्वपूर्ण पारिवारिक व् सामाजिक समस्या है .अच्छी प्रस्तुति .आभार

    जवाब देंहटाएं
  4. कोमल भावों के माध्यम से सशक्त प्रस्तुतीकरण....भाव युक्त शब्दों का अद्भुत संयोजन.....

    जवाब देंहटाएं
  5. मेरी खुश्क त्वचा ने
    कब तुम्हारे अँधेरे को सोखना शुरू किया
    मैं नहीं जानता

    बेहद खूबसूरत...

    जवाब देंहटाएं
  6. अँधेरे के माध्यम से काफी कुछ कह दिया आपने.
    सुन्दर अभिव्यक्ति.

    जवाब देंहटाएं
  7. एकाकी पड़ते जीवन की तस्वीर.

    जवाब देंहटाएं
  8. अँधेरा जीवन में सिर्फ अन्धकार ही नहीं,सुकून की परिभाषा भी है।
    भाव भरी प्रस्तुति।बहुत सुंदर...

    जवाब देंहटाएं
  9. mere saath hi to tumne roshni ko pehchana hogaa ...sach mein khoobsurat rachnaa

    जवाब देंहटाएं
  10. बढते शिखर के साथ
    तुम्हारी जरूरत बढती गयी
    मैं और तेजी से जलता रहा
    यहाँ तक की आने वाले तमाम रास्तों पर
    रौशनी ही रौशनी छितरा दी

    सही कहा दिगम्बर जी,शिखर पर तो अकेले ही रहना होता है और वहां जा कर कोई नीव की ईंट नहीं देखता.बहुत शानदार अभिव्यक्ति.

    जवाब देंहटाएं
  11. बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    हाँ ... अँधेरा जो हूँ

    गहन भावों का समावेश ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  12. बेहतरीन अभिव्यक्ति बधाई नासवा जी।

    जवाब देंहटाएं
  13. शायद प्रेम यूँ ही किया जाता है...अँधेरे को सोख कर..रौशनी दे कर ..

    जवाब देंहटाएं
  14. दूसरों के ग़म अपनाकर ख़ुशी देना सबसे बड़ा परोपकार है .
    बढ़िया सन्देश देती रचना .

    जवाब देंहटाएं
  15. हाँ....अँधेरा जो हूँ

    जीवन के नए आयाम दिखाती ......
    ...'तिल-तिल गलन , पल-पल घुटन '....भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
  16. दिगंबर जी आपकी रचनाएँ ठिठक कर सोचने पर मजबूर कर देती हैं...शब्द और भाव का अद्भुत संगम होता है आपकी रचनाओं में...कितनी आसानी से इतनी गहरी बात कह जाते हैं आप...आपकी लेखनी पर कभी कभी रश्क होता है...यूँ ही लिखते रहें...
    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  17. नीरजजी की पूरी की पूरी टिप्पणी को मेरे मन की बात ही समझी जाए...

    जवाब देंहटाएं
  18. वक़्त के साथ रिश्तों का अर्थ भी आज की आपाधापी और भौतिकतावादी ज़िन्दगी में बदलने लगा है।
    बहुत अच्छा संदेश देती रचना।

    जवाब देंहटाएं
  19. रिश्तों को पुनः परिभाषित करती एक संवेदनशील रचना!!

    जवाब देंहटाएं
  20. आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!

    जवाब देंहटाएं
  21. कभी कभी किसी को सबकुछ दे कर इन्सान खुद को लुटा हुआ ही महसूस करता है.

    जवाब देंहटाएं
  22. रोशनी के साथ अंधेरा और अंधेरे के साथ रोशनी तय ही है. मार्मिक रचना.

    जवाब देंहटाएं
  23. तम सो मा ज्योतिर्गमय पर आधारित हर जश्न क्यूँ |
    क्यों अँधेरे का नहीं सम्मान है
    भाग्य में उसके बड़ा अपमान है
    क्यों सदा ही रौशनी की जय कहें
    सर्वदा हम क्यूँ हमारा क्षय सहें
    आंकते क्यूँ लोग हैं बदतर हमें
    न समझ आया कभी चक्कर मुझे
    मिथ्या जगत में है बराबर योग
    पर पक्ष में तेरे खड़े हैं लोग
    सब रात दिन का देखते संयोग--
    फिर मानसिकता रुग्न क्यूँ ??
    तम सो मा ज्योतिर्गमय पर आधारित हर जश्न क्यूँ |

    जवाब देंहटाएं
  24. अब जबकि तुम्हारी आँखें चुंधियाने लगीं हैं
    बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    हाँ ... अँधेरा जो हूँ
    Bahut dard simat aayaa hai!

    जवाब देंहटाएं
  25. सुंदरतम रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  26. गहरे भाव लिए खुबसुरत रचना। आभार।

    जवाब देंहटाएं
  27. अँधेरे को कविता में ढाल कर रोशनी कर दी आपने...

    जवाब देंहटाएं
  28. जितनी भी तारीफ़ की जाये कम है, सच है की हमारे सभी गुण महत्वपूर्ण होते हैं, अंधेरे की तरह, चाहे कोई पसंद करे या ना करे,
    साभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  29. मेरी खुश्क त्वचा ने
    कब तुम्हारे अँधेरे को सोखना शुरू किया
    मैं नहीं जानता
    अंधेरे को प्रतीक बनाकर इतनी गहरी बात भी कही जा सकती है, ये आपने साबित कर दिया है नासवा जी...बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  30. बढते शिखर के साथ
    तुम्हारी जरूरत बढती गयी
    मैं और तेजी से जलता रहा
    यहाँ तक की आने वाले तमाम रास्तों पर
    रौशनी ही रौशनी छितरा दी

    मन की गहन बातों को उकेरा है ..सुन्दर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  31. बहुत ही गहरी अभिव्यक्ति, सोख लेना हम सीख चुके हैं अब तो।

    जवाब देंहटाएं
  32. आपके शब्द बहुत प्रभावित करते है..... अँधेरे उजाले को ले के इस तरह नहीं सोचा था कभी.....अभी सोच रही हूँ तो सब एकदम सटीक -सा लग रहा है.....उजाले की परिधि बढ़ने पर दुरी तो स्वत: बढ़ने लगती है...

    जवाब देंहटाएं
  33. ओह!!!!!!!!!!!!!!!!

    कितना करारा झटका दे जाते हो
    एक दम से
    यकायक

    यही बनती जा रही है तुम्हारी विशेषता| खुशी होती है ऐसी रचनाओं को पढ़ कर| आप से और बेहतर और बेहतर की उम्मीद होने लगी है|

    जवाब देंहटाएं
  34. कभी कभी अँधेरे बहुत अच्छे लगते है | जब तन्हाई की दरकार हो अच्छी रचना आभार

    जवाब देंहटाएं
  35. अब जबकि तुम्हारी आँखें चुंधियाने लगीं हैं
    बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    हाँ ... अँधेरा जो हूँ

    ..bahut badiya gahan katu anubhuti preshan ke liye aabhar!

    जवाब देंहटाएं
  36. bahut gahan bhaavon ko apne andar me samete hui rachna...lajabaab.

    जवाब देंहटाएं
  37. बेहद गहन और गम्भीर दार्शनिक सोच ... बहुत ही प्रभावशाली अभिव्यक्ति ......

    जवाब देंहटाएं
  38. जीवन के यथार्थ को दिखाती बहुत गहन चिंतन से उपजी कविता ! बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  39. सुँदर कविता , अँधेरे में उजाला फैलाती कविता . आभार .

    जवाब देंहटाएं
  40. कमाल की भावपूर्ण प्रस्तुति की है आपने.
    दिल को कचोटती हुई सी.
    अनुपम प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    नई पोस्ट जारी की है.

    जवाब देंहटाएं
  41. बेहद खूबसूरत ....अँधेरे कि अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  42. अद्भुत कविता भाई दिगम्बर नासवा जी बधाई ब्लॉग पर आपका आना काफी सुखद लगता है |

    जवाब देंहटाएं
  43. waah... kitna kuchh, kitne saare bhaav, itni gaharaiyaan... waah... bahut hi sundar, anokhi pratuti...
    waah

    जवाब देंहटाएं
  44. वह कितना उज्जवल कार्य है ..खुद जलना उसको रौशनी देना...बिलकुल रसखान के कहने पर अमल करना..खुद को जला कर तेरी राह को रोशन करता हु...फिर भी तेरे मरकज़ के काबिल नहीं बनता हु......

    जवाब देंहटाएं
  45. बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    बहुत सुन्दर! सूरज तू जलते रहना ...

    जवाब देंहटाएं
  46. अब जबकि तुम्हारी आँखें चुंधियाने लगीं हैं
    बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    हाँ ... अँधेरा जो हूँ
    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति. बधाई स्वीकारें

    जवाब देंहटाएं
  47. aadarniy sir
    bahut bahut hi utkrishht lagi aapki yah kriti.sach andhere ke bina bhi to ujaale ka koi astitv nahi hai .
    bahut hi achha vikalp andhere ke rup me dhundha hai aapne
    bahut bahut badhai
    hardik naman
    poonam

    जवाब देंहटाएं
  48. अंधेरे का मानवीकरण करके उसका पक्ष बहुत अच्‍छी तरह रखा है आपने अपनी कविता में।

    जवाब देंहटाएं
  49. मेरी खुश्क त्वचा ने
    कब तुम्हारे अँधेरे को सोखना शुरू किया
    मैं नहीं जानता
    --एक कवि का हृदय कितना संवेदनशील होता है ये कविता उसका एक उदाहरण है ..वेदना को पीते हुए कैसे कोई अंधकार को खुद में समेट लेता है कि खुद उसका पर्याय बन जाता है ...अति भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  50. बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    जवाब देंहटाएं
  51. वाह....

    कैसे समेटा आपने drishyon को.....

    बस, वाह वाह वाह...

    जवाब देंहटाएं
  52. कितना तीखा संकेत...
    कैसा खुबसूरत अंदाज़...
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  53. anhdhere ko baya karne ka ek alag andaz... bhaut hi sunder...

    जवाब देंहटाएं
  54. एक अँधेरा रौशनी को लिए हुए.. बहुत सुंदर अभिवयक्ति...

    जवाब देंहटाएं
  55. adhik prakash me aankho ka achanak band ho jana chundhiya jana bhee andhakar kee paida kar deta hai kuch samay ke liye.........
    sunder abhivykti.

    जवाब देंहटाएं
  56. पर क्या तुम्हें एक पल भी
    जीवन में अँधेरे का एहसास हुवा

    क्या बात है , वाह.

    जवाब देंहटाएं
  57. पर क्या तुम्हें एक पल भी
    जीवन में अँधेरे का एहसास हुवा

    मेरी खुश्क त्वचा ने
    कब तुम्हारे अँधेरे को सोखना शुरू किया
    मैं नहीं जानता
    वाह... धन्य है आपकी सोच आपकी लेखनी जिनसे ये शब्‍द जन्मे...बेमिसाल प्रस्‍तुति.....

    जवाब देंहटाएं
  58. बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    हाँ ... अँधेरा जो हूँ

    दिल में एक कसक सी उठाती हुई...बहुत ही मर्मस्पर्शी कविता....

    जवाब देंहटाएं
  59. बढते शिखर के साथ
    तुम्हारी जरूरत बढती गयी
    मैं और तेजी से जलता रहा
    यहाँ तक की आने वाले तमाम रास्तों पर
    रौशनी ही रौशनी छितरा दी

    अब जबकि तुम्हारी आँखें चुंधियाने लगीं हैं
    बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    हाँ ... अँधेरा जो हूँ

    कितना सच कहा है । यही है आज का चलन ।

    जवाब देंहटाएं
  60. रिश्तों पर सशक्त रचना ,भावपूर्ण

    जवाब देंहटाएं
  61. अब जबकि तुम्हारी आँखें चुंधियाने लगीं हैं
    बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    अंधियारे के साथ भला कौन रहना चाहता है ?
    उत्तम रचना।

    जवाब देंहटाएं
  62. किसी को हो न हो,हमें तो अँधेरे से मोहब्बत है !बढ़िया रचना !

    अँधेरे पर मेरी एक रचना 'अँधेरा कित्ता अच्छा है' कुछ समय पहले आ चुकी है !

    जवाब देंहटाएं
  63. मेरी खुश्क त्वचा ने
    कब तुम्हारे अँधेरे को सोखना शुरू किया
    मैं नहीं जानता ...

    कमाल का अहसास..बहुत उत्कृष्ट सार्थक प्रस्तुति..

    जवाब देंहटाएं
  64. देखिए उस तरफ उजाला है ,
    जिस जगह रोशनी नहीं जाती ।
    तुम्हें ज़िन्दगी के उजाले मुबारक ,अँधेरे हमने रास आने लगें हैं ।
    पूर्ण समर्पण भाव की रचना ,दूसरोको उजाला बांटता है अन्धेरा .उजाले का महत्व भी तो अँधेरे से है .चार दिन की चांदनी फेर अँधेरी रात .अँधेरे मेरे प्रेरक उत्प्रेरक हैं .अच्छी रचना ,अंतस का स्पर्श बोध कराती .

    जवाब देंहटाएं
  65. बेहद गहरे अर्थों को समेटती खूबसूरत और संवेदनशील रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    जवाब देंहटाएं
  66. अब जबकि तुम्हारी आँखें चुंधियाने लगीं हैं
    बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ

    हाँ ... अँधेरा जो हूँ
    aakhri ke shabdo me gahri chhap hai ,jo aasaani se nahi bhoolegi .aabhari hoon aap aaye ,rachna wakai bahut hi achchhi hai .

    जवाब देंहटाएं
  67. सबसे पहले तो ब्लाग पर आने का शुक्रिया क्योंकि इसी कारण आपकी इतनी उत्कृष्ट रचनाएं पढने मिल गईं । अम्मा वाली कविता ने तो अभिभूत कर दिया ।इसी तरह अनजानी प्रेमिका सहित और भी ...।

    जवाब देंहटाएं
  68. भाई दिगम्बर नासवा जी बहुत ही सुन्दर कविता आपके द्वारा लिखी गयी है |बधाई और उत्साहवर्धन के लिए आभार |

    जवाब देंहटाएं
  69. भाई दिगम्बर नासवा जी बहुत ही सुन्दर कविता आपके द्वारा लिखी गयी है |बधाई और उत्साहवर्धन के लिए आभार |

    जवाब देंहटाएं
  70. बढ़िया रचना बढ़िया अभिव्यक्ति !
    शुभकामनायें भाई जी ...

    जवाब देंहटाएं
  71. देखो मैंने तुम्हारा ब्लॉग ढूंढ लिया. यहाँ आई देखती हूँ मेरे ही शब्द...मेरे ही भाव...मेरी फीलिंग्स.....मेरे अनुभव.....और....मेरे आंसू नही रुक रहे.खुद को इसी तरह मिटा दिया मैंने हा हा हा अँधेरे हमे अब रास आगये हैं.और अब लगता है सबके रहते लगता है जैसे कोई नही है मेरा हा हा हा नही दुखी नही मैं बस पढते ही दुखी हो उठी हूँ.क्या करू ऐसिच हूँ मैं तो

    जवाब देंहटाएं
  72. अँधेरा और काला रंग कभी किसी को नहीं भाता हालांकि ये शास्वत सत्य का अभिन्न अंग हैं, आधा हिस्सा हैं
    बहुत ही बढ़िया रचना है.
    मेरे ब्लॉग पर आपकी उत्साहजनक टिप्पणियों के लिए मेरा धन्यवाद स्वीकार करें

    आभार
    फणि राज

    जवाब देंहटाएं
  73. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना! बेहतरीन प्रस्तुती!

    जवाब देंहटाएं
  74. गहरे भावोँ से परिपूर्ण सुन्दर कविता।

    जवाब देंहटाएं
  75. दिगंबर नासवा जी हार्दिक अभिवादन -गंभीर भाव सशक्त रचना -काले गोरे से परहेज हटाती -गुण बखानती और बाद में आँखें जब उसकी चुन्धियाने लगी तो ...दूरी ..
    सुन्दर रचना -सुन्दर भाव -बधाई
    शुक्ल भ्रमर ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    जवाब देंहटाएं
  76. अब जबकि तुम्हारी आँखें चुंधियाने लगीं हैं
    बढ़ता हुवा रौशनी का दायरा
    तुम्हारे साथ चलने लगा है
    मैं तुमसे दूर हो रहा हूँ
    हाँ ... अँधेरा जो हूँ ....
    ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना.....

    जवाब देंहटाएं
  77. गज़ब....दो तीन बार पढ़ गये खुद को खोजते//

    जवाब देंहटाएं
  78. मैं अपने साथ
    दो गज़ ज़मीन भी रखता था
    जाने कब
    तुम्हारी बातों का ज़हर
    जीते जी मुझे मार दे ....

    Great imagination !

    Very appealing .

    .

    जवाब देंहटाएं
  79. ये रात चाहें कितनी ही काली क्यूँ ना हो देती सुकून ही है...

    अक्षय-मन "!!कुछ मुक्तक कुछ क्षणिकाएं!!" से

    जवाब देंहटाएं
  80. dard avum tyag bhare samarpan ka bhaav liye ek bahut hi sunder rachna, hriday ko chhoo gayi.

    shubhkamnayen

    जवाब देंहटाएं

आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है